Lifestyle

रिकॉल / माेमो चैलेंज की सबसे डरावनी तस्वीर की कहानी, जिसने हर घर में भर दिया था डर

  • बच्चों को सुसाइड के लिए उकसाने वाली डरावनी तस्वीर एक स्कल्पचर की है
  • जापान के आर्टिस्ट कीसुके ऐसो ने 3 साल पहले बनाया था जापानी लोककथाओं से प्रेरित स्कल्पचर

लाइफस्टाइल डेस्क. मोमो चैलेंज के नाम पर उभरी सबसे डरावनी तस्वीर की कहानी भी इसके चेहरे जैसी ही है। इसे टोक्यो के 43 वर्षीय आर्टिस्ट कीसुके ऐसो ने बनाया था। दुनियाभर के पेरेंट्स को परेशान करने देने वाली तस्वीर दरअसल एक स्टैच्यू की है। जिसका चेहरा तस्वीर के रूप में वायरल हुआ। आर्टिस्ट कीसुके के मुताबिक, बच्चों में दिशाभ्रमित करने वाले इस स्टैच्यू को हटा दिया गया है।

कीसुके जापान के टोक्यो के लिंक फैक्ट्री नाम से एक कंपनी चलाते हैं। जो टीवी शोज के लिए कई चीजें बनाती है। कीसुके कहते हैं कि मेरे एक छोटा बच्चा है, इसलिए मैं समझ सकता हूं कि माता-पिता कितने चिंतित हुए होंगे। लेकिन इस बात की खुशी है कि मेरे काम को दुनियाभर में पहचाना गया।

घृणा से भरी महिला पर बनाया गया स्कल्पचर

  1. कीसुके को डरावनी और रहस्यमय चीजों का शौक है। करीब 3 तीन साल वे पहले घृणा से भरी महिलाओं के स्कलपचर की एक सीरीज तैयार कर रहे थे। माेमो चैलेंज वाली तस्वीर का एक स्कल्पचर भी इसका एक हिस्सा था। लेकिन ये स्कल्पचर थोड़ा सा अलग था और चीनी व जापानी लोककथाओं से प्रेरित था।
  2. 2016 में टोक्यो की एक प्रदर्शनी में रखी गई थी मूर्ति

    ''

    ये स्कल्पचर एक गर्भवती महिला के भूत और रहस्यमय पंख वाले प्राणी से प्रेरित था जिसकी मौत हो जाती है और वह छोटे बच्चों को सताता है। स्कल्पचर एक मीटर ऊंचा है और पैर पक्षियों जैसे हैं। 2016 में टोक्यो की वनीला गैलरी में इसकी प्रदर्शनी भी लगाई गई थी।

  3. इसे देखकर एक व्यक्ति को आया था हार्टअटैक

    प्रदर्शनी के दौरान उस स्कल्पचर ने लोगों का ज्यादा ध्यान नहीं खींचा और इसे पैक करके स्टूडियो के बाहर रख दिया गया। करीब 2 साल तक यह रखी रही। कुछ समय बाद इसकी पैकिंग खुल जाने पर उधर से गुजर रहे एक नागरिक को इसे देखते ही हार्ट अटैक आ गया। इस घटना के बाद इसे स्टोर रूम में रखवा दिया गया।

  4. 2018 में वायरल हुईं तस्वीरें

    घटना के करीब एक हफ्ते के बाद आर्टिस्ट कीसुके को फेसबुक पर नफरतभरे मैसेज मिलने लगे। लोगों का कहना था कि यह बेहद डरावना राक्षस है। कुछ लोगों ने कीसुके को मर जाने तक की बात मैसेज में लिखी। आर्टिस्ट कीसुके का कहना है कि इन संदेशों के बाद मैं काफी हिल गया था। कुछ समय बाद ही जुलाई 2018 में मोमो चैलेंज का पता चला। इस चैलेंज की तस्वीरें सोशल मीडिया पर दिखीं।

    ''

  5. अमेरिका, यूरोप, भारत और मैक्सिकों में बढ़े मामले

    धीरे-धीरे मोमो चैलेंज के कारण बच्चों की मौत के मामले अमेरिका, यूरोप, भारत, मैक्सिको में बढ़ने लगे। प्रदर्शनी में किसी के द्वारा खिंची गई तस्वीर वायरल होने लगी। कुछ समय के लिए ये चैलेंज थमा लेकिन फिर अफवाह फैली की मोमो चैलेंज अब बच्चों को समूहों में अपना शिकार बनाने लगा है।

  6. यूट्यूब से हटाया गया बच्चों को उकसाने वाला वीडियो

    फिर यूट्यूब पर वीडियो पोस्ट हुए जिसमें पेप्पा पिग कार्टून के वीडियो चलने के कुछ मिनट बाद मोमो चैलेंज की तस्वीर आती है और मैसेज डिस्प्ले होता है। इसमें पेरेंट्स बातें न मानने और तस्वीर की आंखों में देखने की बात कही जाती है। जिसे कई पेरेंट्स ने बाद में  यूट्यूब से हटाने की गुजारिश की।

  7. इसे यूट्यूब से हटाने के लिए टीवी सेलिब्रिटी किम कर्दांशियां ने इंस्टाग्राम पर अभियान चलाया और अपने 129 मिलियन फॉलोवर्स से इसे हटवाने की अपील करने को कहा। जिसे बाद में हटाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *