Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

प्रभारी सचिव डॉ. समित शर्मा ने जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक ली

संवाददाता दिनेश जाखड़
झुंझुनूं, 29 मई।

पिछली बैठक में दिए निर्देशों की पालना की रिपोर्ट ली जिला आबकारी अधिकारी को चार्जशीट देने के निर्देश

जिले के प्रभारी सचिव डॉ. समित शर्मा ने बुधवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक ली। जिला कलक्टर चिन्मयी गोपाल की मौजूदगी में उन्होंने जिला स्तरीय अधिकारियों से अपनी पिछली बैठक में दिए गए निर्देशों पर की गई कार्रवाई के बारे में जानकारी ली। बैठक में मलसीसर में गर्ल्स कॉलेज के पास बने अवैध शराब के ठेके को लेकर प्रभारी सचिव ने नाराजगी जाहिर करते हुए जिला आबकारी अधिकारी को चार्जशीट देने के निर्देश दिए। उन्होंने गलत जांच रिपोर्ट पेश करने वाले पुलिस के एसएचओ को भी चार्जशीट देने के निर्देश एसपी राजर्षी वर्मा को दिए साथ ही राजस्व अधिकारियों व कार्मिकों की मिलीभगत की जांच करने के भी निर्देश दिए हैं। इसके अलावा डॉ समित शर्मा ने बैठक में विभागवार सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रकरणों पर विस्तार से चर्चा करते हुए आवश्यक निर्देश दिए।
बैठक में प्रभारी सचिव ने अधिकारियों से कहा कि राज्य सरकार की मंशा अनुसार आमजन को बेहतर सुविधाएं मुहैया करवाई जाएं। उन्होंने हीट वेव एवं मौसमी बीमारियों के लिए आवश्यक तैयारी की समीक्षा करते हुए पेयजल, बिजली की समस्याओं की त्वरित समाधान की बात कही। बैठक के दौरान उन्होंने आमजन की शिकायतों को भी सुना व अधिकारियों को निस्तारण के निर्देश दिए। बैठक में जिला कलक्टर चिन्मयी गोपाल, पुलिस अधीक्षक राजर्षि राज एवं अतिरिक्त जिला कलक्टर राम रतन सौकरिया सहित बड़ी संख्या में जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

चिकित्सा विभाग :

डॉ. शर्मा ने चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि मरीज को कतार में नहीं लगना पड़े, इसके लिए टोकन सिस्टम शुरू किया जाए। वहीं लेबर रूम में प्रसूताओं से बधाई के नाम पर पैसे मांगने के मामलों पर रोक लगाने के सख्त निर्देश दिए। चिकित्सकों द्वारा बार-बार मेडिकल सर्टिफिकेट लेकर मेडिकल लीव पर जाने के मामले पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए। साथ ही राजकीय चिकित्सकों के घरों में संचालित निजी अस्पतालों व दवाई की दुकानों की भी जांच करवाने के निर्देश दिए। जिले के प्रभारी सचिव ने ग्रामीण इलाकों में सीएचसी व पीएचसी में संस्थागत प्रसव की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए। वहीं खाद्य सुरक्षा अधिकारियों के द्वारा मिलावटखोरों के खिलाफ मौके पर जाकर प्रभावी कार्रवाई करने के निर्देश दिए। जिसकी पालना में बुधवार शाम को चिराणा व छावनी बाजार में सैंपलिग व जब्ती की कार्रवाई भी की गई है। बैठक में राजकीय बीडीके अस्पताल में सोनोग्राफी के मुद्दे पर सोनोलाजिस्ट के डेपुटेशन के लिए विभाग को लिखने के निर्देश दिए।
धनखड़ हॉस्पिटल में महिला की गलत किडनी निकालने के मामले में उन्होंने सीएमएचओ डॉ. राजकुमार डांगी को रिपोर्ट पेश करने के निर्देश देते हुए कहा कि संबंधित चिकित्सक के खिलाफ पुलिस में एफआईआर दर्ज करवाई जाए व इस चिकित्सकीय लापरवाही पर राजस्थान मेडिकल कौंसिल को चिकित्सक का लाईसेंस निरस्त करने के लिए प्रकरण भेजा जाए। उन्होंने पीएमओ डॉ संदीप पचार को बीडीके अस्पताल में फेकू मशीन क्रय करने के निर्देश दिए, वहीं जाखोड़ा पीएचसी के नर्सिंग ऑफिसर हरिसिंह पायल के बार-बार अनुपस्थित रहने पर एपीओ करने एवं जिले से बाहर स्थानांतरित करने के निर्देश दिए।

शिक्षा विभाग:

शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान प्रभारी सचिव ने निर्देश दिए कि स्कूलों में लाइब्रेरी व कंप्यूटर लैब को सुरक्षित किया जाए, वहीं स्मार्ट क्लासेज के द्वारा विद्यार्थियों को अधिकतम लाभ प्रदान किया जाए॥ अध्यापकों के आपसी झगड़ों व विवादों की मिलने वाली शिकायतों पर शिक्षा विभाग के अधिकारियों को कहा कि इन पर प्रभावी कार्यवाही की जाए एवं अधिकारी आपसी समन्वय से कार्य करें।

स्थानीय निकायः

बैठक में प्रभारी सचिव ने नगरीय निकाय के अधिकारियों को आवारा कुत्तों के बंध्याकरण के निर्देश दिए। साथ ही सड़कों पर अतिक्रमण हटाने एवं रास्तों पर जल भराव की समस्याओं का निस्तारण करने निर्देश दिए। उन्होंने नवलगढ़ में भरने वाले गंदे पानी की समस्या व बिसाऊ में विद्यालय के पास भरने वाले गंदे पानी के स्थाई समाधान के लिए शिक्षा विभाग के साथ प्रस्ताव तैयार कर प्रस्ताव 5 दिन में भेजने के निर्देश दिए। इसके लिए उन्होंने बिसाऊ अधिशाषी अधिकारी व सीडीईओ को आपसी समन्वय से कार्य करने के निर्देश दिए।
प्रभारी सचिव ने बैठक में पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों को सड़क के निर्माण की गुणवत्ता की नियमित जांच करने, सभी सरकारी कार्यालय में ई-फाइलिंग के द्वारा पत्राचार करने के भी निर्देश दिए।

जल संरक्षण के निर्देशः

डॉ शर्मा ने बैठक में वर्षा जल संरक्षण का महत्व बताते हुए सभी राजकीय कार्यालयों में वर्षा जल संरक्षण एवं भूजल पुनर्भरण पर कार्य करने के निर्देश दिए। इसके अतिरिक्त सभी अधिकारियों को विभाग के कार्यालय परिसर, हैडवर्क्स व अन्य विभागीय स्थानों पर यथा जलदाय विभाग के फिल्टर प्लांट, उच्च जलाशय, पंप हाऊस, आदि पर बरसात से पहले पौधारोपण अभियान चलाने के निर्देश दिए। डॉ. शर्मा ने पर्यटन विभाग के सहायक निदेशक देवेंद्र चौधरी को अलसीसर में बने मरोडिया तालाब में पानी की आवक सुनिश्चित करने व बरसात से पहले पेड़ पौधे लगाने के निर्देश दिए। जलदाय विभाग के अधिकारियों को भी गर्मी में पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित करने, अतिरिक्त टैंकरों से पानी की सप्लाई करने, खराब हैंडपंप को हटाने, पुराने व सुखे कुओं को जल संरक्षण के लिए उपयोग में लाने के निर्देश दिए। जल जीवन मिशन के बारे में उन्होंने कार्य में तेजी लाने के निर्देश देते हुए हर घर पेजयल कनेक्शन उपलब्ध करवाने की बात कही।

पेड़ों की कटाई पर गंभीर:

वहीं हरे पेड़ों के काटने के मामले को गंभीरता से लेते हुए जिला प्रभारी ने वन विभाग, पुलिस विभाग व परिवहन विभाग के अधिकारियों को से नाराजगी प्रकट की और संयुक्त नाके लगाकर पिकअप जब्ती इत्यादि की कार्रवाई करने एवं अवैध लकड़ी के तस्करों पर कठोर कार्रवाई के सख्त निर्देश दिए।
बलौद प्रकरण में तुरंत सहायता के निर्देश :

बलौदा दलित हत्या प्रकरण में बैठक के दौरान ही दलित अधिकार केंद्र के प्रतिनिधि मंडल ने शिकायत प्रस्तुत कर स्थानीय पुलिस के स्तर पर साठ-गांठ व अनुज्ञाधारी व शराब माफिया के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने की बात कही, इस पर प्रभारी सचिव ने पुलिस की कार्यशैली पर नाराजगी प्रकट की। डॉ शर्मा ने बड़े दोषियों व शराब माफिया के खिलाफ कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए। वहीं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उपनिदेशक डॉ पवन पूनिया को पीड़ित परिवार को तुरंत सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए, जिस पर डॉ पूनिया ने बताया कि सहायता राशि के बिल बनाकर भिजवा दिए गए है।

liveworldnews
Author: liveworldnews

Leave a Comment

लाइव क्रिकेट

संबंधि‍त ख़बरें

सोना चांदी की कीमत