Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

महाराजा सूरजमल बृज विश्वविधालय के 95 हजार स्नातक और स्नातकोत्तर के छात्रों को दीक्षांत समारोह में मिली डिग्री

ब्यूरो चीफ दीपचंद शर्मा डीग

महाराजा सूरजमल बृज विश्वविद्यालय उच्च शिक्षा में बने मिसाल – राज्यपाल

05 जुलाई। माननीय राज्यपाल श्री कलराज मिश्र ने शुक्रवार को कुम्हेर स्थित महाराजा सूरजमल बृज विश्वविद्यालय में आयोजित की गई चतुर्थ दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता की। कार्यक्रम में वर्ष 2022 व 2023 के लगभग 95 हजार स्नातक और स्नातकोत्तर के छात्रों को डिग्री दी गई। इनमे से 95 छात्रों को अच्छे अंक प्राप्त करने पर स्वर्ण एवं रजत पदक देकर सम्मानित किया गया। वही विश्वविधालय के 31 छात्रों को पीएचडी की डिग्री प्रदान की गई। इस दौरान दीक्षांत समारोह के विशिष्ट अतिथि भारत सरकार के पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ मुरली मनोहर जोशी वीसी के माध्यम से कार्यक्रम में जुड़े एवं‌ उप मुख्यमंत्री राजस्थान सरकार डॉ प्रेमचंद बैरवा व्यक्तिशः कार्यक्रम में उपस्थित रहे ।
माननीय राज्यपाल ने दीक्षांत समारोह में उपाधियाँ प्राप्त करने वाले सभी विद्यार्थियों को उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएँ दीं एवं उनके शिक्षकों और अभिभावकों को भी आभार प्रकट किया। उन्होंने छात्रों से कहा कि वे इसी प्रकार से दृढ़ निश्चय के साथ आगे बढ़ते रहे और कड़ी मेहनत करते हुए अपने लक्ष्यों को अर्जित करे। उन्होंने छात्राओं द्वारा कार्यक्रम में अधिक पदक प्राप्त करने पर उन्हें बधाई दी एवं पुरुष छात्रों को और अधिक मेहनत कर सफलता प्राप्त करने को कहा। उन्होंने वीर शिरोमणि महाराजा सूरजमल जी के जीवन का भी वर्णन किया एवं सभी को उनके दूरदर्शिता, कुशल प्रशासन और उनकी महानता से प्रेरणा लेने की बात कही। महाराजा सूरजमल बृज विश्वविद्यालय को उच्च शिक्षा में मिसाल कायम करने को कहा गया। कार्यक्रम की शुरुआत में मां सरस्वती के सम्मुख दीप प्रज्वलित किया गया। इसके पश्चात माननीय राज्यपाल ने भारत के संविधान के उद्देशिका और भाग 4 क के मूल कर्तव्यों का पठन किया। उन्होंने सभी छात्रों को अपनी वाणी, दिनचर्या एवं व्यवहार से सदा सर्वदा स्वयं को उक्त उपाधि के योग्य प्रमाणित करने को कहा।माननीय उप मुख्यमंत्री डॉ. प्रेमचंद बैरवा ने भी दीक्षांत समारोह में आए सभी सम्मानित छात्रों को शुभकामनाएं दी एवं समाज व राष्ट्र के निर्माण में सहयोग करने को कहा। उन्होंने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत को 2047 तक विकसित राष्ट्र बनाने के लिए सभी को अपना योगदान देना होगा। इस अवसर पर माननीय राज्यपाल महोदय द्वारा पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. मुरली मनोहर जोशी, नोबेल पुरस्कार विजेता प्रोफेसर वेंकटरमन रामाकृष्णन, नोबेल पुरस्कार विजेता प्रोफेसर कार्ल बैरी शार्पलेस, प्रोफेसर गोवर्धन मेहता एवं प्रोफेसर सतीश त्रिपाठी को डॉक्टर ऑफ साइंस की मानद उपाधि दी गई।इस दौरान संभागीय आयुक्त भरतपुर सांवरमल वर्मा, जिला कलेक्टर डीग श्रुति भारद्वाज, जिला पुलिस अधीक्षक राजेश मीणा, महाराजा विश्वविधालय के कुलपति प्रोफेसर रमेश चंद्रा सहित जनप्रतिनिधिगण, अधिकारीगण एवं मीडिया के प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

liveworldnews
Author: liveworldnews

Leave a Comment

लाइव क्रिकेट

संबंधि‍त ख़बरें

सोना चांदी की कीमत