Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

वर्धमान महावीर खुला विश्वविद्यालय का 16वां दीक्षांत समारोह आयोजित

ब्यूरो चीफ़ शिवकुमार शर्मा
कोटा राजस्थान

विश्वविद्यालय शिक्षा के साथ-साथ कौशल विकास से भी विद्यार्थियों को जोड़ें, खुला विश्वविद्यालय युगानुकूल पाठ्यक्रम निर्मित करें-राज्यपाल

कोटा, 10 जुलाई। कुलाधिपति एवं राज्यपाल श्री कलराज मिश्र ने कहा है कि खुला विश्वविद्यालय के पत्राचार पाठ्यक्रम इस तरह से बनें कि उनमें युग की आवाज ध्वनित हों। उन्होंने नई शिक्षा नीति के अंतर्गत विद्यार्थियों के भविष्य के लिए उपयोगी पाठ्यक्रम निर्मित करने और पहले से बने पाठ्यक्रमों को अपडेट करने पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय शिक्षा के साथ-साथ कौशल विकास से भी विद्यार्थियों को जोड़ें।
श्री मिश्र बुधवार को वर्धमान महावीर खुला विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह समय सूचना क्रांति और इंटरनेट का है। इस दौर में खुला विश्वविद्यालय की प्रासंगिकता तेजी से बढ़ रही है। उन्होंने विजुअल क्लासरूम लर्निंग, इंटरैक्टिव लर्निंग और वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए साधारण पाठ्यक्रमों के साथ रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रमों का प्रभावी संचालन किए जाने का आह्वान किया।
राज्यपाल ने कहा कि आज शिक्षा का परिदृश्य पूरी तरह बदल गया है और दूरस्थ शिक्षा की महती आवश्यकता है। इसका दायरा बढ़ रहा है। श्री मिश्र ने कहा कि आज डिजिटल का युग है और शिक्षा में तकनीक का उपयोग बहुत जरूरी हो गया है जो शिक्षार्थियों को आगे बढ़ाने में सहायक सिद्ध होगा।
श्री मिश्र ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना को पूरा करने के लिए कौशल विकास से जुड़ी शिक्षा ही अधिक उपयोगी है। उन्होंने विश्वविद्यालय के आचार्यों को नवीन ज्ञान सृजन पर कार्य करने, शोध की मौलिक संस्कृति विकसित करने तथा विश्वविद्यालयों को अपने यहां शोध में ‘लैब-टु-लैंड’ प्रोग्राम चलाकर किसानों के हित में अनुसंधान करने की भी आवश्यकता जताई।
उन्होंने कहा कि शिक्षा जीवन गढ़ती है। शिक्षा का उजियारा अंदर एवं बाहर के अंधियारे को नष्ट करता है। दीक्षांत प्राप्त करने वाले छात्र-छात्राओं के जीवन में एक नया अध्याय शुरू हो रहा है। वे यहां से ज्ञान के अथाह सागर में प्रवेश कर रहे हैं। जो ज्ञान अभी तक उन्होंने अर्जित किया है उसका उपयोग समाज एवं देश को आगे बढ़ाने में करें।
राज्यपाल ने खुला विश्वविद्यालय को शैक्षिक रूप से वंचित क्षेत्रों में रहने वाले विद्यार्थियों के लिए विशेष रूप से कार्य किए जाने पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय ऐसी शोध पीठों की स्थापना अपने यहां करे जिससे राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के मंतव्य को प्रभावी रूप में पूरा किया जा सके। श्री मिश्र ने खुला विश्वविद्यालय के शिक्षकों का आव्हान किया कि वह अपने पाठ्यक्रम को निरंतर अपडेट करते रहें जिससे भावी विद्यार्थियों को कोई परेशानी ना हो।
श्री मिश्र ने कोटा खुला विश्वविद्यालय द्वारा बालिकाओं को निशुल्क शिक्षा प्रदान किए जाने के कदम की सराहना की। उन्होंने कहा कि यह कदम महिला शिक्षा के लिए बहुत प्रेरणादायी है। उन्होनें शैक्षिक नवाचारों के साथ विश्वविद्यालय को ज्ञान की भारतीय परम्परा का उत्कृष्ट केन्द्र बनाए जाने का आह्वान किया।
राज्यपाल ने आरंभ में संविधान की उद्देशिका और मूल कर्तव्यों का वाचन करवाया। राज्यपाल द्वारा विश्वविद्यालय के नव निर्मित कुलगीत का लोकार्पण भी किया गया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. कैलाश सोडानी ने विश्वविद्यालय का प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया।
दीक्षांत समारोह में जून 2021 और दिसंबर 2021 की परीक्षाओं के कुल 39,065 विद्यार्थियों को उपाधियां मिली। जून 2021 में एम.कॉम की परीक्षा में टॉपर विद्यार्थी सुमित बोथरा और जून 2021 की एमएलआईएस की परीक्षा के टॉपर मनोहर लाल को कुलाधिपति स्वर्ण पदक प्रदान किये गये। जून 2021 में बेचलर ऑफ जर्नलिज्म के टॉपर शमसुद्दीन खान और दिनेश चंद्र शर्मा एवं दिसंबर 2021 की बेचलर ऑफ जर्नलिज्म परीक्षा के टॉपर अजय यादव को करूणा शंकर त्रिपाठी मेमोरियल स्वर्ण पदक प्रदान किये गये। जून 2021 की पीजीडीएलएल परीक्षा की टॉपर सुप्रिया सिंह को श्रीमती अशर्फी देवी मेमोरियल स्वर्ण पदक प्रदान किया गया। चन्द्रशेखर को पत्रकारिता में, सानिया खान को भूगोल में तथा निधि जैन को संस्कृत विषय में पीएचडी की उपाधि प्रदान की गई। विभिन्न विषयों में 73 टॉपर विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक दिए गए।

liveworldnews
Author: liveworldnews

Leave a Comment

लाइव क्रिकेट

संबंधि‍त ख़बरें

सोना चांदी की कीमत