Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

सोमवार को है नाग पंचमी, कुंडली से सर्प दंश या काल सर्प दोष दूर करने के लिए इन नागों की करें पूजा

नाग पंचमी सोमवार, 21 अगस्त 2023 को मनाई जायेगी। हर साल नाग पंचमी सावन शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। हमारे देवताओं में साँपों का सदैव महत्वपूर्ण स्थान रहा है। उदाहरण के लिए, आप विष्णु जी को शेष नाग की शय्या पर सोते हुए और भगवान शंकर को यज्ञ रूपी गले में सर्प धारण करते हुए देख सकते हैं। भगवद गीता में भगवान कृष्ण को नागों में वासुकि और नागों में अनंत कहा गया है।

नाग पंचमी की पूजा अलग-अलग तरीकों से की जाती है। दक्षिण भारत में, नाग पंचमी के दिन, पीले या काले साँपों की मूर्तियाँ बनाई जाती हैं और उनकी दूध से पूजा की जाती है। कई घरों में दीवारों पर गेरूआ रंग से पोतकर स्थान बनाया जाता है। फिर इस दीवार पर दूध में कोयला मिलाकर घर की शोभा बढ़ाई जाती है और इसमें सांपों की पूजा की जाती है। इसके अलावा कुछ लोग घर के दरवाजे के दोनों ओर हल्दी से पूजा करते हैं।

नाग पंचमी का यह त्यौहार सर्पदंश के भय और कालसर्प दोष को दूर करने के लिए मनाया जाता है। तो अगर आपको भी यह डर है या आपकी कुंडली में कालसर्प का दाग है तो इससे छुटकारा पाने के लिए आपको इन आठ नागों की पूजा करनी चाहिए: वासुकि, तक्षक, कालिया, मणिभद्र, ऐरावत, धृतराष्ट्र, कर्कोटक और धनंजय।

हम आपको बता दे कि किसी भी जन्म कुंडली में केतु, राहु के सातवें खाने में होता है और काल सर्प दोष का मतलब है कि सभी ग्रह राहु और केतु के एक ही पहलू में होंगे। तो अगर आपकी कुंडली में ऐसी स्थिति बनती है तो आपको आज नाग पंचमी की पूजा करनी चाहिए। लेकिन अगर आपकी कुंडली में कालसर्प दोष नहीं है तो भी आज आप मूलांक के क्रम में नाग की पूजा कर सकते है। क्योंकि राहु हर कुंडली में मौजूद होता है।

इसलिए कालसर्प दोष हो या न हो, राहु की कष्टकारक और शांति के लिए दिशाओं की सही क्रम से पूजा करना सभी के लिए फलदायी होगा। व्यक्ति को यह जानना चाहिए कि राहु सांप का मुंह है और केतु सांप की पूंछ है, क्योंकि व्यक्ति को मुंह से ही पूजा करनी चाहिए। तो आपको यह पता लगाना होगा कि आपकी जन्म कुंडली में राहु किस खाने में है और उसके आधार पर आप नाग पंचमी की पूजा सही तरीके से कर सकेंगे। सबसे पहले आपको एक चौकोर वर्ग बनाना होगा. इस वर्ग के अनुसार वासुकि नाग की पूजा ईशान कोण में, तक्षक नाग की पूर्व दिशा में, कालिया नाग की पूजा आग्नेय कोण में, मणिभद्र की दक्षिण दिशा में, ऐरावत नाग की नैऋत्य कोण में, ध्रतराष्ट्र की पश्चिम दिशा में पूजा की जानी चाहिए।

Rajeev Kushwaha
Author: Rajeev Kushwaha

Leave a Comment

लाइव क्रिकेट

संबंधि‍त ख़बरें

सोना चांदी की कीमत